30 C
Patna
April 7, 2020
मनोरंजन

अफजल गुरु की फांसी पर आलिया भट्ट की माँ ने उठाया सवाल – उसे बलि का बकरा क्यों बनाया गया

soni razdan controversy

मनोरंजन। बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट की माँ सोनी राजदान ने आतंकवादी अफजल गुरु की फांसी पर बयान देकर नया विवाद (Soni Razdan Controversy) खड़ा कर दिया है। सोनी राजदान ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अफजल गुरु को बलि का बकरा बताया है। आपको बता दें की अफजल गुरु 2001 में संसद पर हुए हमले में दोषी पाया गया था, जिसके बाद अदालत ने उसे फांसी की सजा दी थी। 9 फरवरी 2013 को उसे फांसी पर लटकाया गया था। अफजल गुरु ने अपने वकील सुशील कुमार को जो पत्र लिखा था, वह सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस पत्र में अफजल ने जम्मू कश्मीर से आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार किये गए निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह पर संसद हमले की साजिश में शामिल होने का आरोप लगाया था।

यह भी पढ़ें : – सनकी प्रेमी – लड़की के घर के बाहर ड्रामे के बाद घर में घुसकर मारी गोली, पुलिस ने किया गिरफ्तार

आलिया भट्ट की माँ सोनी राजदान ने उसी से सम्बंधित खबर को शेयर करते हुए सवाल किया – अगर वह व्यक्ति (अफजल) बेकसूर निकला, तो क्या हम मरे व्यक्ति को वापस ला सकते हैं। यह न्याय व्यवस्था का मजाक नहीं है तो क्या है? इसीलिए मौत की सजा को हलके में नहीं लेना चाहिए, अफजल गुरु को आखिर बलि का बकरा क्यों बनाया गया, इसकी सख्त जांच बेहद जरुरी है।

यह भी पढ़ें : – शादी के अगले ही दिन नवविवाहिता को उठा ले गए, कई लोगों ने किया सामूहिक दुष्कर्म।

Soni Razdan Controversy

  • सोनी राजदान के इस ट्वीट पर यूजर्स ने कड़ी प्रतिक्रया दी है। एक यूजर्स ने कमेंट किया “लानत है तुम पर, संसद हमले में जो लोग मारे गए उनके लिए कभी एक शब्द नहीं निकला, लेकिन आतंकवादियों के लिए दर्द जाग उठता है इनलोगों को।
  • एक अन्य यूजर्स ने लिखा – दाऊद से पैसे लेकर कुछ भी बोल देते हो क्या ? अपने देश के खिलाफ ही बोलते हुए तुम बॉलीवुड वालों को शर्म नहीं आती है।

यह भी पढ़ें : – रोहित – विराट की लाजवाब बल्लेबाजी, भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 7 विकेट से हराकर सीरीज 2-1 से अपने नाम की

ट्वीट पर विवाद होते देख सोनी राजदान ने सफाई देते हुए कहा – मेरे कहने का मतलब यह नहीं था की वह बेगुनाह था। आखिर डीएसपी देविंदर सिंह पर जो आरोप उसने लगाया था उसकी जांच क्यों नहीं होनी चाहिए। तिहाड़ जेल से अफजल गुरु ने अपने वकील को पत्र में लिखा था, देविंदर सिंह और जम्मू-कश्मीर पुलिस के अन्य अधिकारियों ने उसे काफी यातनाएं दी थी। उसके बाद एक आतंवादी से मिलवाया था, जिसने संसद पर हमला किया। निलंबित देविंदर सिंह ने उससे एक कार और आतंकवादियों के ठहरने के लिए इंतजाम करने को कहा था।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...