30 C
Patna
September 21, 2020
उत्तर प्रदेश नई दिल्ली मुख्य समाचार राज्य समाचार

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का हुआ गठन, दिल्ली के ग्रेटर कैलाश में होगा ट्रस्ट का ऑफ‍िस

trust on ram temple in ayodhya

नई दिल्ली। अयोध्या में श्री राम – मंदिर के निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्र सरकार ने ट्रस्ट के गठन से संबंधित गजट नोटिफ‍िकेशन जारी कर दिया है। इस बाबत पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट (Trust on Ram Temple in Ayodhya) का गठन किया गया है। इसका नाम श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र होगा, न्यूज एजेंसी पीटीआई ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के हवाले से बताया, की ट्रस्ट का ऑफिस दिल्ली के ग्रेटर कैलाश में होगा। राम मंदिर निर्माण से जुड़े सारे फैसले दिल्ली के इसी ऑफिस में लिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें : – विराट कोहली अगर नहीं करते चूक तो मैच का नतीजा भारत के पक्ष में भी झुक सकता था

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए बनाये गए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य होंगें, जिसमे 8 स्थायी ओर 7 नामित सदस्य होंगे। इसमें से एक सदस्य दलित समुदाय से होना अनिवार्य शर्त जोड़ा गया है। अधिसूचना में आगे बताया गया सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार मस्जिद निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड को पांच एकड़ भूमि का आवंटन पत्र जारी किये जा चुके हैं।

Trust on Ram Temple in Ayodhya

यह भी पढ़ें : – फिल्म “शिकारा” की रिलीज पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, माहौल बिगड़ने की आशंका

इससे पहले लोकसभा में पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया की मंत्रिमंडल ने राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट के गठन क मंजूरी दे दी है। पीएम मोदी ने बताया सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन किया गया है। यह ट्रस्ट राम मंदिर निर्माण से सम्बंधित सभी फैसले लेने के लिए स्वतंत्र होगा। राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट को 67.07 एकड़ जमीन स्थानांतरित की जायेगी। पीएम के मुताबिक़ रामलला की जमीन भी ट्रस्ट को दी जायेगी। साथ ही सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए अन्यत्र जगह पर 5 एकड़ जमीन आवंटित की गयी है।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...