मुख्य समाचार विदेश

आतंकवादी मसूद अज़हर के खिलाफ भारत के साथ आये अमेरिका,फ्रांस और ब्रिटेन

मसूद अजहर, USA, france, England, china, Masood Azhar, अमेरिका, फ्रांस, इंग्‍लैंड, चीन
आतंकवादी सरगना मसूद अज़हर के पक्ष में वीटो पावर का इस्तेमाल करके उसे आतंकवादी घोषित करने वाले प्रस्ताव से बचाने वाले चीन से अमेरिका ब्रिटैन और फ्रांस बात कर रहे हैं।

वॉशिंगटन : खबर के अनुसार अमेरिका ब्रिटैन और फ्रांस चीन के साथ किसी समझौते की बात कर रहे हैं जिसके तहत आतंकवादी सरगना मसूद अज़हर पर संयुक्त राष्ट्र संघ के द्वारा प्रतिबंध लगाया जा सके इस मामले के विशेषज्ञों का कहना है की तीनो ही प्रमुख देश चीन से आतंकवादी घोषित करने की भाषा को लेकर बात कर रहे हैं।

अज़हर मसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव अमेरिका ब्रिटैन और फ्रांस के द्वारा लाया गया था परन्तु चीन ने लगातार चौथी बार अपने वीटो पावर का इस्तेमाल करते हुए इस प्रस्ताव पर रोक लगा दी थी।

यह भी पढ़ें :- जिओ ने दिया यूज़र्स को तोहफा होली पर जानिये कितना डाटा रोज मुफ्त मिलेगा

भारत में पाकिस्तान समर्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के द्वारा पुलवामा में सुरक्षाबलों पर हमले के कुछ दिनों बाद इन तीनो देश ने ये प्रस्ताव पेश किया था इस हमले में सुरक्षाबलों के 40 जवान शहीद हो गए थे।

विशेषज्ञों के अनुसार अगर चीन इसी तरह से मसूद को आतंकवादी घोसित करने में अड़ंगा लगाता रहता है तो इस पर खुली बहस के लिए संयुक्त राष्ट्र के सबसे शक्तिशाली शाखा में पेश करने का भी विकल्प खुला रखा है।

वहीँ भारत ने चीन के इस अड़ियल रवैये पर निराशा व्यक्त की है साथ ही प्रस्ताव पेश करने वाले देशों को चेताया भी की आतंकवाद को ख़त्म करने के लिए भारत अन्य विकल्प पर भी काम कर सकता है।

सुरक्षा परिषद् में हुई वार्ता को सार्वजनिक नहीं किया जाता है परन्तु चीन के रवैये से हताश परिषद् के कई सदस्यों ने नाम न बताने की शर्त पर बताया की चीन किस तरह से आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है।

Loading...

संबंधित ख़बरे

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...