30 C
Patna
April 7, 2020
देश मुख्य समाचार

घुसपैठ रोकने के लिए बांग्लादेश सीमा पर सुरक्षा की दीवार खड़ी कर रहा भारत

smart fence on bangladesh border

देश। बांग्लादेश से लगी सीमा पर घुसपैठ रोकने के लिए बीएसएफ ने स्मार्ट फैंस लगाने का काम शुरू कर दिया है। इस स्मार्ट फैंस की सबसे ख़ास बात यह है, की इसे ना तो काटा जा सकता है, और ना ही इसमें जंग लगने की संभावना है। इससे पहले सीमा पर सुरक्षा के लिए कंटीली तार लगाया हुआ था, जिसे घुसपैठिये आसानी से काटकर भारत में घुस आते थे। इस स्मार्ट फेंस को बांग्लादेश सीमा से सटे असम के सिल्चर सेक्टर में पायलट-प्रोजेक्ट के तौर पर लगाया जा रहा है, इसकी कुल लम्बाई करीब 7 किलोमीटर है। इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने घुसपैठ के लिहाज से संवेदनशील इलाकों की पहचान कर, वहाँ स्मार्ट फैंस लगाने की बात कही थी। अगर यह प्रोजेक्ट सफल रहा तो बाकी जगहों पर भी जल्द ही स्मार्ट फैंस (Smart Fence on Bangladesh Border) लगाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें : – शादी की मेंहदी भी नहीं छुटी थी, शादी के 16 दिन बाद शहीद हुआ जवान, शहीद की पत्नी पूनम व परिजनों का का रो-रोकर..

Smart Fence on Bangladesh Border

प्राप्त खबरों के अनुसार 7 किलोमीटर लम्बे स्मार्ट फैंस लगाने में बीएसएफ को 14.30 करोड़ रूपये की लागत आई है। स्मार्ट फेन्स दरअसल जालीदार फेन्स है जिसमे काटने की जगह नहीं है। जबकि पुरानी कंटीली तार को पिलास या किसी तेज औजार से आसानी से काटा जा सकता था। बीएसएफ के डीजी ने बताया इसे घुसपैठियों को भारत में आने से रोकने के लिए लगाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : – पति की गन्दी आदतों से परेशान पत्नी पहुंची महिला आयोग कहा – तलाक दिलवा दो

आपको बता दें की केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बीएसएफ से घुसपैठ के लिए संवेदनशील स्थानों को चिन्हित करने को कहा था। उसके बाद घुसपैठ, स्मैगलिंग और दूसरे बॉर्डर-क्राइम होने की संभावना ज़्यादा रहती है, वैसी जगहों को चिन्हित कर वहाँ स्मार्ट फैंस लगाने का कार्य शुरू किया गया। सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार देश में नागरिक संसोधन अधिनियम (CAA) लागू होने के बाद से सीमा पर बांग्लादेश की और से घुसपैठ में कमी आयी है। खबर ये भी है की वहाँ से आने की जगह कई घुसपैठिये वापस बांग्लादेश जा रहे हैं।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...