नई दिल्ली मुख्य समाचार राजनीती राज्य समाचार

प्रभावशाली नेतृत्व की कमी ने राज्यों में भाजपा की नैया डुबोई, चुनाव नतीजे दे रहे चेतावनी

bjp lack of effective leadership in states

नई दिल्ली। देश के सभी राज्यों की भाजपा की सरकार बनाने का सपना कभी नहीं पूरा हो सकेगा, अगर भाजपा को अभी भी अपनी गलती का एहसास नहीं हो पाता है। दो से चार महीनों के अंदर दो राज्यों में सत्ता गंवाना और दो में बेहद निराशाजनक प्रदर्शन, भाजपा को यह एहसास दिलाने के लिए काफी होना चाहिए की जमीनी स्तर पर कहीं तो भारी गड़बड़ (BJP lack of effective leadership in states) हो रही है। अगर भी चुनावों में मिल रही पराजय के कारणों को समझने में भाजपा नाकाम रही है, या जानबूझकर नज़रअंदाज कर रही है, तो पार्टी को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। दिल्ली चुनाव नतीजों ने भाजपा के लिए खतरे की घंटी बजा दी है।

यह भी पढ़ें : – सुबह जोरदार धमाकों से दहला पटना, धमाके में 7 घायल दो गंभीर पुलिस पब्लिक हुई आमने-सामने

2019 लोकसभा में पहले से ज़्यादा प्रचंड बहुमत से केंद्र की सरकार बनाने वाली भाजपा यह भूल गयी, की कुछ ही महीने पहले राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हुए चुनाव में पार्टी को सत्ता गंवानी पड़ी थी। लोकसभा चुनाव के बाद महाराष्ट्र और झारखंड भी हाथ से निकल गया। दिल्ली में हुए चुनाव में पूरा जोर लगा देने के बाद ही रिजल्ट निराशाजनक ही रहा, तमाम कोशिशों के बाद भी पार्टी दोहरे अंक को नहीं छू सकी। भाजपा ने शाहीन बाग़ को भी मुद्दा बनाने की कोशिश की, लेकिन नतीजा सिफर ही रहा।

BJP lack of effective leadership in states

यह भी पढ़ें : – सौतन लाने का विरोध करने पर कॉन्स्टेबल पति ने पत्नी के बाल काटकर और मुंह काला करके पूरा गाँव में घुमाया

राज्यों में सत्ता गंवाने के पीछे सबसे बड़ी वजह पार्टी में प्रभावशाली नेतृत्व की कमी सामने आ रही है। केंद्र के लिए भाजपा के पास नरेंद्र मोदी जैसा प्रभावशाली नेता है, लेकिन राज्यों में अगर नज़र दौड़ाएं तो स्थिति दयनीय नज़र आती है। चुनाव के हालिया रिजल्ट को देखकर यह कहा जा सकता है, की जनता अब काम देखकर वोट देना सिख गयी है। केंद्र के लिए जनता की पहली पसंद भाजपा है, वहीँ राज्यों में जनता स्थानीय पार्टी को ज़्यादा महत्व दे रही है। भाजपा के लिए राहत की बात यह है की अगला चुनाव बिहार में इस साल के अंत में है, जहां एक भरोसेमंद साथी भी है। भाजपा के लिए यह समय अपनी कमजोरियों को ठीक करने का है, अगर जल्द ही इन्हे दूर नहीं किया गया तो राज्यों में सरकार बनाने की स्वर्णिम सपना कभी पूरा नहीं हो सकेगा।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...