30 C
Patna
July 30, 2021
पश्चिम बंगाल मुख्य समाचार राजनीती राज्य समाचार

“जय श्री राम” को लेकर नुसरत जहां के बिगड़े बोल, कहा – गला दबाकर नहीं गले लगाकर ले राम का नाम

nusrat jahan statement on jai shree ram

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में विक्टोरिया मेमोरियल में केंद्र सरकार के एक समारोह में सीएम ममता बनर्जी के सामने “जय श्री राम” के नारे लगाने पर नुसरत जहां ने विवादित बयान (Nusrat Jahan statement on Jai Shree Ram) दिया है। टीएमसी की सांसद नुसरत जहां ने “जय श्री राम” नारे को लेकर कड़ी प्रतिक्रया देते हुए कहा – श्री राम का नाम गला दबाकर नहीं बल्कि गले लगाकर लेना चाहिए। दरअसल नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर केंद्र सरकार ने एक कार्यक्रम आयोजित किया था। जिसमे पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी शामिल हुई थी। ममता बनर्जी के सामने कुछ लोगों द्वारा “जय श्री राम” के नारे लगाए जाने पर वह भड़क उठी थी। यहां तक की सीएम ने अपना भाषण देने से भी इंकार कर दिया था।

यह भी पढ़ें : – भोजपुरी फिल्मों की अभिनेत्रियां जिनकी खूबसूरती के आगे बॉलीवुड हीरोईने भी नहीं टिक पाती है

Nusrat Jahan statement on Jai Shree Ram

“जय श्री राम” के नारे को लेकर पश्चिम बंगाल के राजनितिक हलकों में तूफ़ान मचा हुआ है। ऐसे में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद नुसरत जहां के बयान ने आग में घी डालने का काम किया है। नुसरत जहां ने सीएम ममता बनर्जी के सामने “जय श्री राम” के नारे लगाए जाने की घटना की कड़ी निंदा की है। नुसरत ने निंदा से आगे बढ़ते हुए कहा – राम का नाम गले लगाने के बाद करें, नाकि गला दबाकर। नुसरत ने यह बयान अपने ट्विटर अकाउंट से किये हैं। इस बयान के बाद पश्चिम बंगाल की राजनीति का तापमान बढ़ना तय माना जा रहा है।

नुसरत ने आगे लिखा – सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में राजनितिक और धार्मिक नारे लगाना अस्वीकार्य है। ऐसी घटनाओं की मैं कड़ी निंदा करती हूँ। टीएमसी की एक अन्य सांसद महुआ मोइत्रा ने भी कार्यक्रम में “जय श्री राम” के नारे लगाए जाने को लेकर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई है। महुआ मोइत्रा ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा – एक धर्मनिरपेक्ष देश में धर्म आधारित नारे लगाना कहाँ तक सही है। केन्डर सरकार ने लोकतंत्र को अपमानित करने का कार्य किया है। महुआ मोइत्रा ने आगे कहा – केंद्र की आधिकारिक कार्यकर्म में आप धर्म आधारित नारे नहीं लगा सकते। यह आरएसएस और बीजेपी की सोची समझी साजिश है। “जय श्री राम” के नारे लगाने वाले कोई और नहीं बीजेपी के ही लोग हैं।

यह भी पढ़ें : – पोर्न फिल्म ऑफर की गयी थी मुझे अर्धनग्न फोटोशूट होने के बाद बिच में ही भाग गयी थी मैं – कंगना रनौत

वहीँ पश्चिम बंगाल में बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इस घटना पर टिपण्णी करते हुए कहा – “जय श्री राम” के नारे से स्वागत करने को सीएम ममता बनर्जी खुद को अपमानित महसूस करती हैं। यह कैसी राजनीति है, “जय श्री राम” से कैसा वैमनस्य है ममता बनर्जी को।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...