30 C
Patna
April 18, 2021
जुर्म नई दिल्ली राज्य समाचार

5वीं कक्षा की छात्रा के साथ 7 बार बलात्कार करने वाले दरिंदे प्रिंसिपल को कोर्ट ने सुनाई मौत की सजा

principle rape with girl student

पटना। राजधानी पटना के एक प्रतिष्ठित स्कुल की 5वीं कक्षा की छात्रा के साथ 7 बार बलात्कार करने वाले दरिंदे प्रिंसिपल को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। वहीँ छात्रा के साथ बलात्कार करने में सहयोग करने वाले दूसरे शिक्षक को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। आपको बता दें की पटना के फुलवारीशरीफ में स्थित न्यू सेंट्रल पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल ने 11 वर्षीया छात्रा के साथ चाकू की नोक पर बलात्कार किया था। इसके बाद भी प्रिंसिपल ने 6 बार छात्रा के साथ जबरन सम्बन्ध (Principle rape with girl student) बनाया था। छात्रा जब गर्भवातो हो गयी तब यह मामला उजागर हुआ। यह घटना आज से दो साल पहले की है, मामला सामने आने पर अभिभावकों का गुस्सा फुट पड़ा था।

यह भी पढ़ें : – “प्लीज भैया छोटी बहन के साथ गैंगरेप मत करो, मेरे साथ जो करना है कर लो” गैंगरेप की शिकार बहनों ने की आत्महत्या

Principle rape with girl student

पुलिस में दर्ज रिपोर्ट के मुताबिक़ प्रिंसिपल अरविंद ने हैंडराइटिंग चेक करने के बहाने छात्रा को अपने केबिन में बुलाया था। फिर गलती होने पर सजा देने के बहाने केबिन से सटे कमरे में ले गया। वहाँ छात्रा से कपडे उतारने को कहा, डर के मारे छात्रा रोने लगी। रोती हुई छात्रा को चाकू से काट देने का भय दिखाते हुए कपडे उतरवा दिए। फिर 11 साल की छात्रा के साथ बलात्कार किया, दर्द से बिलखती छात्रा की आवाज़ सुनकर स्कुल का ही एक अन्य शिक्षक अभिषेक वहाँ पहुँच गया।

यह भी पढ़ें : – 7 दरिंदों ने 18 साल की किशोरी के साथ किया गैंगरेप, भाई ने किया विरोध तो पिटाई कर कुंए में फेंका

शिक्षक अभिषेक ने छात्रा की मदद करने की बजाय उसके बलात्कार का वीडियो बना लिया। जिसके बाद स्कुल के प्रिंसिपल ने वीडियो वायरल करने की धमकी देकर छात्रा के साथ कई बार दुष्कर्म किया। बार-बार बलात्कार होने से छात्रा गर्भवती हो गयी, तब जाकर परिजनों को इस बारे में पता चला। दो साल बाद इस केस का फैसला हुआ, जिसमे आरोपी प्रिंसिपल को फांसी की सजा और उसका सहयोग करने वाले शिक्षक अभिषेक को उम्रकैद की सजा सुनाई।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...